हमारे बारे में

केंद्रीय कपास प्रौद्योगिकी अनुसंधान संस्थान, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के प्रमुख घटक संस्थानों में से एक है, जो कृषि अनुसंधान और शिक्षा विभाग, कृषि मंत्रालय, भारत सरकार के अधीन आता है। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के संगठनात्मक स्थापना के तहत  केंद्रीय कपास प्रौद्योगिकी अनुसंधान संस्थान,  भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के कृषि अभियांत्रिकी प्रभाग के अंतर्गत आता है।

ICAR-CIRCOT की स्थापना वर्ष 1924 में तत्कालीन भारतीय केंद्रीय कपास समिति (ICCC) ने टेक्नोलॉजिकल लेबोरेटरी (TL) के नाम से विभिन्न फाइबर गुणवत्ता मापदंडों का मूल्यांकन करके और उनकी कताई क्षमता पर शोध करके नई उपभेदों के विकास में कपास प्रजनकों की सहायता करने के दोहरे उद्देश्य के साथ की थी|

1966 में, प्रशासनिक नियंत्रण को भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) में स्थानांतरित कर दिया गया और संस्थान का नाम बदलकर कपास प्रौद्योगिकी अनुसंधान प्रयोगशाला (CTRL) कर दिया गया। अनुसंधान और विकास के लिए जनादेश कपास के कटाई उपरांत प्रौद्योगिकी और कपास के मूल्यवर्धन उत्पादों और अपशिष्टों के प्रसंस्करण के सभी पहलुओं तक विस्तृत है। बाद में 1 अप्रैल 1991 से, इस संस्थान का नाम बदलकर केंद्रीय कपास प्रौद्योगिकी अनुसंधान संस्थान (CIRCOT) कर दिया गया। यह संस्थान नौ दशकों के अपने लंबे समय के दौरान सूती गुणवत्ता मूल्यांकन और जिनिंग पर प्रशिक्षण प्रदान कर रहा है और साथ ही वाणिज्यिक शर्तों पर फाइबर, यार्न और कपड़ों के लिए गुणवत्ता मूल्यांकन समर्थन की पेशकश के द्वारा व्यापार और उद्योग के लिए आपको सेवा प्रदान कर रहा है।

CIRCOT ने अपनी स्थापना के बाद से नौ लंबे दशकों में अपने हितधारकों की बदलती जरूरतों के अनुरूप खुद को पुनर्जीवित करके कपास से जुड़े समुदाय की सेवा की है। CIRCOT ने कपास के पुर्नोत्थान, प्रसंस्करण के लिए प्रौद्योगिकियों और मशीनरी के अनुसंधान और विकास को गति दी है। संस्थान को विभिन्न प्रकार की कपड़ा सामग्री के लिए परीक्षण, विधियों का मानकीकरण और विकास योगदान के लिए व्यापक रूप से मान्यता प्राप्त है। वर्तमान में CIRCOT ने तकनीकी अनुप्रयोगों के लिए केले और नारियल जैसे अन्य प्राकृतिक फाइबर के उपयोग में अनुसंधान के लिए अपनी विशेषज्ञता में विविधता लाई है और गैर-बुना तकनीक, प्राकृतिक फाइबर आधारित कंपोजिट में अग्रणी काम शुरू कर दिया है। CIRCOT ने नैनो टेक्नोलॉजी, प्लाज्मा तकनीक के क्षेत्र में कदम रखा है और इन ब्रेक-थ्रू प्रौद्योगिकियों का उपयोग करके पर्यावरण के अनुकूल कपड़ा प्रक्रियाओं को विकसित करने के लिए शोध कर रहा है। CIRCOT हितधारकों के लिए विकसित प्रौद्योगिकियों को समय पर स्थानांतरित करने में अपनी रणनीतिक भूमिका के बारे में पूरी तरह से अवगत है। इसने एक जीवंत और सक्रिय व्यापार संवर्धन और विकास (बीपीडी) इकाई स्थापित की है जो विभिन्न तरीकों के माध्यम से प्रौद्योगिकी के हस्तांतरण के साथ संभावित उद्यमियों को सृजनन केंद्र की सुविधाएं भी प्रदान कर रही है।

संस्थान का मुख्यालय मुंबई शहर के मध्य में माटुंगा में स्थित है। संस्थान के चार प्रमुख अनुसंधान प्रभाग जो कि मैकेनिकल प्रोसेसिंग डिवीजन (एमपीडी), क्वालिटी इवैल्यूएशन एंड इम्प्रूवमेंट डिवीजन (क्यूईआईडी), केमिकल और बायोकेमिकल प्रोसेसिंग डिवीजन (सीबीपीडी) और ट्रांसफर ऑफ टेक्नोलॉजी डिवीजन (टीटीडी) हैं। नागपुर स्थित CIRCOT के जिनिंग प्रशिक्षण केंद्र (GTC) पूरे भारत में फैले जिनिंग-प्रेस इकाइयों में कार्यरत जिन,  फिटर और तकनीशियनों को प्रशिक्षण देकर जिनिंग उद्योग की सेवा करते हैं। प्रशिक्षण के अलावा यह केंद्र जिन निर्माताओं को तकनीकी परामर्श सेवाएं प्रदान करता है। संस्थान की पाँच क्षेत्रीय इकाइयाँ जो कि कोयम्बटूर, गुंटूर, धारवाड़, सूरत और सिरसा में स्थित हैं।